वीडियो: भरी सभा से मुख्यमंत्री योगी ने शहीद दरोगा के परिवार को बाहर निकला

लखीमपुर खीरी। चुनावी जनसभा के लिए लखीमपुर के विलोबी मैदान में पहुंच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जैसे ही अपना भाषण शुरू किया। वैसे ही भीड़ से कुछ लोग उन्हें सफेद तख्तिया दिखाने लगे। इन तख्तियों पर लोगों ने सीबीआई जांच की मांग का स्लोगन लिख रखा था.

जिसे देखते ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भड़क गए और उन्होंने इन लोगों को सभा से बाहर निकालने का आदेश दे दिया। बिना यह जाने कि यह लोग कौन है और क्यों सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं उन्हें बाहर निकालने के आदेश से लोग नाराज हो गए और एक पूरा गांव सभा छोड़ कर बाहर निकल आया.

आपको बता दें कि करीब 3 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सभा को संबोधित करने के लिए मंच पर पहुंच चुके थे। इस दौरान उपस्थित जनसमूह ने उनका जोरदार स्वागत किया। मुख्यमंत्री का भाषण शुरू हुआ तो कुछ लोगों ने उन्हें सफेद तख्तियां दिखाना शुरू कर दिया.

इन तख्तियों पर शहीद दरोगा मनोज मिश्रा हत्या केस में सीबीआई जांच की मांग का स्लोगन लिखा था। थाना खीरी की पोस्ट लगुचा निवासी दरोगा मनोज मिश्रा पुत्र श्याम मुरारी मिश्रा की हत्या बरेली जिले के फरीदपुर थाने में तैनाती के दौरान पशु तस्करों द्वारा की गई थी.

9 सितम्बर 2015 को हुई दारोगा की हत्या के समय प्रदेश में सपा की सरकार थी। तब विपक्षी पार्टी की भूमिका निभाते हुए भाजपा के तमाम नेताओं ने शहीद दरोगा के परिवार को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया था और कहा था कि जब हमारी सरकार आएगी तो मामले की जांच उच्च स्तरीय कराई जाएगी। सरकार बदल गई और भाजपा सत्ता में आ गई। परिवार न्याय की आस लेकर भाजपा के मंत्रियों नेताओं से मिले लगा, पर उसे हर जगह सिर्फ और सिर्फ हताशा मिली.

भाजापा के किसी भी नेता ने सहयोग नहीं किया

ऐसे में प्रदेश की मुखिया योगी आदित्यनाथ के लखीमपुर आगमन की सूचना जब पीड़ित परिवार को मिली तो उन्होंने उनसे मिलने का प्रयास किया। परंतु उनके इस प्रयास में भाजापा के किसी भी नेता ने सहयोग नहीं किया। ऐसे में शहीद दारोगा के पिता श्याम मुरारी मिश्रा व दरोगा की पत्नी ने पूरे गांव के साथ अपनी बात को तख्तियों पर लिखकर मुख्यमंत्री को दिखाया.

लेकिन परिवार का न्याय मांगने का यह तरीका मुख्यमंत्री को रास नहीं आया और बिना मामले को समझे प्रदेश के मुखिया ने पुलिस व प्रशासन से इन्हे सभा से बाहर निकाल देने का फरमान सुना दिया.

शहीद के परिवार के साथ किया गया यह दुर्व्यवहार

बस फिर क्या था। पुलिस वालों द्वारा पीड़ित परिवार को बाहर निकला जाने लगा। मुख्यमंत्री द्वारा शहीद के परिवार के साथ किया गया यह दुर्व्यवहार गांव के लोगों को भी रास नहीं आया और गांव से आए कई दर्जन लोग एक साथ मुख्यमंत्री की सभा को चलता छोड़कर बाहर निकलने लगे.

 

लोगों में इस बात को लेकर खासी नाराजगी थी कि मुख्यमंत्री ने बिना बात को समझें और जाने पीड़ित परिवार को सभा से बाहर निकालने का आदेश दे दिया। ऐसे में उनकी फरियाद को अब कौन सुनेगा.

यह पोस्ट जनसत्ता न्यूज़ से ली गयी है और बिना सम्पादित की हुयी पोस्ट की गयी है जिसका साभार
लिंक यहाँ है http://jansattanews.com/chief-minister-yogi-got-out-of-the-family-of-shaheed-daroga/