पाकिस्तान ने झूठ बोला, भारतीय वायु सेना ने कहा, पाक के निशाने पर थे सैनिक ठिकाने

भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के इस दावे को झूठा क़रार दिया है जिसमें यह कहा गया था कि पाकिस्तान ने जान बूझ कर भारत के सैनिक ठिकानों को निशाना नहीं बनाया और ख्याल रखा कि भारतीय नागरिक न मारे जाएँ। वायु सेना, थल सेना और नौसेना के साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में वायु सेना ने पाकिस्तान के दावे की धज्जियाँ उड़ा दीं।

एयर वाइस मार्शल ए.जे.के. कपूर ने कहा,  ‘पाकिस्तानी लड़ाकू जहाजों का लक्ष्य भारत के सेनिक ठिकाने ही थे। पाक वायु सेना के लड़ाकू जहाजों ने भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन किया और वे अंदर घुसने लगे। हमें उनके भारतीय सीमा के उल्लंघन का पता चल गया तो हमने उन्हें बीच में ही रोका।

इस वजह से वे आगे बढ़ने के बजाय वापस लौटे और भागते हुए बम गिरा दिया। यह संयोग ही है कि वे बम सुनसान जगहों पर गिरे। इसलिए पाकिस्तान का यह कहना बिल्कुल ग़लत है कि वह भारत को नुक़सान पहुँचाना नहीं चाहता था।

‘एयर वाइस मार्शल ने कहा कि पाकिस्तान वायु सेना का यह कहना भी ग़लत है कि उसने एफ़-16 विमानों का इस्तेमाल नही किया था। कपूर ने कहा कि भारतीय लड़ाकू जहाजों को निशाना बनाने के लिए हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों का इस्तेमाल किया था, जिसका मलबा हमारे पास है। यह मलबा राजौरी सेक्टर में गिरा मिला। वायु सेना ने पत्रकारों को मिसाइल के उन टुकड़ों को दिखाया।

एयर वाइस मार्शल ने कहा कि पाकिस्तानी वायु सेना ने जान बूझ कर दूसरी ग़लतबयानी भी की है, झूठ बोला है। पाकिस्तान ने पहले कहा कि उसने हमारे दो सैनिकों को पकड़ लिया, पर बाद में उसने ही कहा कि उसकी गिरफ़्त में सिर्फ़ एक भारतीय पायलट है।

भारतीय वायु सेना के इस आला अफ़सर ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान रिहा होकर आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने जनीवा कन्वेंशन के तहत ही यह काम किया है। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय थल सेना की ओर से मेजर जनरल सुरेंद्र सिंह महाल ने कहा कि पाकिस्तान ने युद्धविराम का उल्लंघन किया और बग़ैर किसी उकसावे या कारण के भारतीय सीमा पर गोलाबारी की।

उन्होंने हमारे सैनिक ठिकानों को निशाने पर लिया। उन्होंने हमें नुक़सान पहुँचाने की कोशिश की, पर हमने उन्हें नाकाम कर दिया। नौसेना की ओर से रियर एडमिरल गुजराल ने कहा कि नौसेना पूरी तरह तैयार है और पाकिस्तान की किसी भी कोशिश को नाकाम करने में सक्षम है।