अयोध्या में मुस्लिमों के घरों के दरवाजों पर लग गए ताले, मुस्लिम मोहल्‍लों में फैला सन्नाटा

विधानसभा चुनाव और 2019 में आने वाले लोकसभा चुनाव की सभी पार्टियों की तरफ से जमकर तैयारी चल रही हैं| विपक्षी दल भी कोई ऐसा मुद्दा तलाश कर रहे हैं| जिसके चलते वो सरकार को घेर सकें केंद्र सरकार भी विपक्षी पार्टियों को घेरने में कहीं से कसर नहीं छोड़ रही है| चुनाव में राम मंदिर का मुद्दा अहम मुद्दा बन गया है जिसको लेकर केंद्र सरकार कटघरे में नजर आ रही है बहुत से हिन्दूवादी संगठन और शिवसेना भी इस मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर हमला वोल रही है बहुत से हिन्दूवादी संगठन भी जल्द से जल्द राम मंदिर बनवाने की मांग कर रहे हैं|

हाल ही में उद्धव ठाकरे का अयोध्या जाने का मामला गरमाया हुआ है शिवसेना अध्यक्ष के अयोध्या जाने के साथ साथ बहुत से शिवसैनिक भी अयोध्या पहुँच गये है इसके कारण अयोध्या के जो मुस्लिम मोहल्ले हैं वहाँ पर सन्नाटा छाया हुआ है बहुत से मुस्लिम परिवार तो अयोध्या छोड़ कर पलायन कर चुके हैं| 1992 के इतिहास से डरे सहमे मुस्लिम परिवार पलायन कर रहे हैं|

ज्यादा तर मुस्लिम परिवारों ने तो अपने बच्चों को बाहर भेज दिया है हिंदुस्तान न्यूज़ से बात करते हुए मोहम्मद जब्बार ने कहा कि जैसा 1992 में हुआ था वैसा दोबारा न हो जाये इसी कारण मुस्लिम परिवारों को पलायन करना पड़ रहा है| मुस्लिम परिवारों में महिलाओं और बच्चों को सुरक्षित जगह पर भेज दिया है किन्तु पुरुष को अपने पालतू जानवरों की देखभाल के लिए वहीँ पर रुकना पड़ रहा है|

शिवसेना के साथ कई हिन्दूवादी संगठन भी इसमें शामिल हैं स्थानीय साधू महात्मा ने भी उनका खुल कर सपोर्ट किया हैं मुस्लिम बहुल मोहल्लों में पुलिस की तैनाती को लेकर स्थानीय निवाशी नाखुश दिख रहे हैं हालाकि सीआरपीएफ और यूपी पुलिस का बहुत बड़ा संख्या बल अयोध्या में तैनात है|

हिन्दुस्तान न्यूज़ पर मुस्लिम व्यक्ति ने कहा की स्थानीय हिन्दु को लेकर उनमे कोई डर नहीं हैं डर तो बाहर से आये हिन्दूवादी संगठन से हैं 25 नवम्बर को दोपहर को 12 बजे से लेकर श्याम 5 बजे तक धर्म सभा होगी जिससे राम मंदिर को लेकर तस्वीर साफ होती नजर आएगी| जिसमे विश्व हिन्दू परिषद् के साथ कई हिन्दूवादी संगठन भी इसमें शामिल रहेंगे|