जुमा की नमाज़ पढ़ रहे नमाज़ियों को जबरन मस्जिद से ही निकाल दिया गया

नमाज़ की अदायगी को लेकर गुरुग्राम में चल रहा विवाद अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि कल जुमा की नमाज़ को लेकर मेवात के इलाके से सटे पाटोदी तहसील के गाँव भोंडा कलां में बहूसंख्यक वर्ग के कुछ असामाजिक तत्वों के जरिये भोंडा कलां के नमाजियों की नमाज़ में खलल डाला गया और नमाजियों को जबरन हाथ पकड़ कर मस्जिद से बाहर निकाला गया.

यह घटना मेवात की है. इस घटना के बाद से ही पाटोदी तहसील और उसके आस-पास में पूरे इलाकों के अल्पसंख्यक वर्ग में डर का माहौल बना हुआ है.

गाँव भोंडा कलां के नौजवान शकील अहमद ने संवादाता को फोन के जरिये बताया कि जैसे ही आज एक मुस्लिम मजदूर नामज़ अदा करने के लिए गाँव की मस्जिद में आया तो गाँव के ही बहुसंख्यक वर्ग के कुछ असामाजिक तत्वों ने उसका हाथ पकड़कर उसे मस्जिद से बहार कर दिया.

मुस्लिम मजदूर को मस्जिद से बहार करते हुए उन लोगों ने कहा कि इस मस्जिद में सिर्फ भोंडा कलां के लोग ही नामज़ अदा कर सकते हैं. यहीं कहते हुए उस मुस्लिम मजदूर को मस्जिद से बहार कर दिया गया.

एक तरफ असामजिक तत्वों के द्वारा नमाज़ में डाले गए इस खलल से जुमा की नमाज़ लगभग तीन घंटे की देरी से अदा हुई. वहीं दूसरी तरफ दर्जन भर मजदूर वर्ग मुस्लमान नमाज़े जुमा से वंचित हो गये.