इस्लाम में है ये सबसे बड़ा गुनाह, जिसकी किसी भी सूरत में न माफी मिलेगी और न बख्शीश होगी…

अबू बक्र रज़ि अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया क्या मैं तुम्हे सबसे बड़ा गुनाह न बताऊ ,हमने अर्ज़ किया ज़रूर बताईयेगा ,आप सल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया अल्लाह के साथ शिर्क और वाल्दैन की नाफरमानी करना और फ़रमाया आघ हो जाओ.

झूठ और झूठी गवाही भी ,आघ हो जाओ झूठ और झूठी गवाही भी( बड़े गुनाह है )प्यारे रसूल इसे बार बार दोहराते रहे यहाँ तक की हमने सोचा के आप खामोश नहीं होंगे. (सही बुखारी ,जिल्द 7 ,5976 )

अब्दुल्लाह इब्न मसूद राज़ी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया झूठ से बच्चों क्यूँकि झूठ बुराई की तरफ ले जाता है और बुराई जहन्नम की तरफ, अगर कोई आदमी झूठ बोलता है और मुसलसल झूठ बोलता रेता है तो अल्लाह के यहाँ उसको कज़्ज़ाब (झूठ ) लिख दिया जाता है. (सही बुखारी जिल्द7, 5976)

रसूल अल्लाह सल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया -और स्काह बोलना तुम पर लाज़िम है क्यूंकि सच नेकी की तरफ और नेकी जन्नत की तरफ ले जाती है अगर कोई आदमी सच बोलता है और मुसलसल सच बोलता है तो अल्लाह के यहाँ उसको सादिक़ (सच्चा)लिख दिया जाता है सुनन अबू दावूद जिल्द 7 ,1551 सही )

Abu Bakr Radhi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya kya main tumhe sabse bada gunaah na batauu, humne arz kiya zarur bataeeye , Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya ALLAH ke saath shirk aur waldein ki nafarmani karna.

Aur farmaya ki aagah ho jao jhoothi baat aur jhoothi gawahi bhi, aagah ho jao jhoothi baat aur jhoothi gawahi bhi (bade gunaah hain) Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ise baar baar dohrate rahe yahan tak ki humne socha Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam khamosh nahi honge. Sahih Bukhari, Jild 7, 5976

Abdullah ibn masood Radhi allahu anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sal-Allahu alaihi wasallam ne farmaya Jhooth se bachte raho kyunki jhooth burayee ki taraf le jata hai aur burayee jahannam ki taraf , agar koi aadmi jhooth bolta hai aur musalsal jhooth bolta rahta hai to ALLAH ke yahan usko kazzab (jhootha) likh diya jata hai. Sahih Bukhari Jild 7, 5976

Aur sach bolna tum par lazim hai kyunki sach neki ki taraf le jata hai aur neki jannat ki taraf le jati hai, agar koi aadmi sach bolta hai aur musalsal sach bolta rahta hai to ALLAH ke yahan usko siddiq ( sachcha) likh diya jata hai. Sunan Abu Dawud, Jild 3,1551-Sahih