सीरिया के ताबड़तोड़ हमलों से इजरायली सैनिकों में खौफ पैदा हुआ, उलटे पैर वापस भागी सेना

ज़ायोनी शासन के सैनिकों में सीरिया के मिसाइल हमलों के बाद बहुत अधिक डर फैल गया है और साथ ही इजरायली ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है.

अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक, इस्राईल के लगातार जारी बर्बरतापूर्ण हमलों का मुंहतोड़ जवाब देते हुए सीरिया ने ज़ायोनी शासन के अवैध क़ब्ज़े वाले क्षेत्र जोलान पर जवाबी कार्यवाही की है.

बतया जा रहा है की सीरिया के इस जवाबी हमले से इस्राईल के कई सैन्य ठीकनों को बहुत भारी क्षति पहुंची है.

रिपोर्टों के आनुसार, ज़ायोनी सैनिकों ने मिसाइलों की बारिश होता देख हड़कंप मच गया और डर के कारण वो इधर-उधर भागने लगे. इस्राईल के ही कुछ समाचार सूत्रों ने खबर दी है कि इस्राईली सैनिकों में सीरिया के मिसाइल हमले से इतना डर पैदा हो गया है कि कुछ सैनिक मोर्चा छोड़कर भाग गए हैं.

बुधवार को देर रात सीरिया पर इस्राईल ने अपने तोप ख़ानों और मिसाइलों से हमला किया जिसको सीरियाई सेना ने असफल बनाते हुए तुरंत जावाबी कार्यवाही की और इस्राईली सेना के ठिकानों लगातार 50 से 60 मिसाइल को दाग़ दिए.

इस प्रकार मिसाइलों की बरसात होता देख ज़ायोनी कालूनियों में अवैद रूप से बसे कट्टरपंथी यहूदियों में भगदड़ मच गई और वे सुरक्षित स्थानों में छिपने के लिए भाग खड़े हुए. कुछ ज़ायोनी तो इस्राईल छोड़कर ही भागने के प्रयास में हैं.

इस देश पर ज़ायोनी शासन के हमलों की प्रतिक्रिया में सीरिया की सेना ने कहा है कि सीरिया के एयर डिफ़ेंस सिस्टम ने इस्राईल के अधिकतर मीज़ाइलों को मार गिराया है.

एक बयान जारी करते हुये सीरिया की सेना ने कहा है कि इस्राईली मीज़ाइलों के हमले में तीन व्यक्ति शहीद और दो घायल हुए हैं. इस हमले में एक रडार स्टेशन और एक शस्त्रागार तबाह हुआ जबकि एयर डिफ़ेंस सिस्टम को भी नुक़सान पहुंचा है.

साथ ही सेना ने अपने बयान में कहा कि सेना ने इस हमले का मुक़ाबला करके यह दिखा दिया है कि वह पूरी तरह से चौकन्ना है और हर प्रकार के अतिक्रमण के मुक़ाबले में देश की रक्षा करने के लिए तैयार है.

सीरियाई सेना ने कहा है कि इस तरह के हमले, सीरिया में आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने में देश की अधिक सफलता का कारण बनेंगे.

सीरिया के उप विदेश मंत्री फ़ैसल मिक़दाद ने सीरिया व इस्राईल के बीच मीज़ाइल युद्ध के बाद इरना से बात करते हुए कहा है कि उनका देश ज़ायतनी शासन के हर तरह के हमले और अतिक्रमण का मुक़ाबला करने के लिए पूरी तरह से तैयार है.

उन्होंने कहा कि किसी भी समय इस्राईली अतिक्रमणकारियों को ठोस जवाब देने के लिए सीरिया स्वतंत्र है. उन्होंने कहा कि अमरीकी, इस्राईल को मुक्त छोड़ कर क्षेत्र और संसार में अशांति का कारण बने हैं, इस्राईल के इस तरह हमलों के लिए अमरीका ज़िम्मेदार है.